कैथलन्यूज़हरियाणा

जिस प्रदेश की महिलाएं व बच्चें खुशहाल व समृद्ध होंगे, वह प्रदेश समृद्ध होगा : प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी

हरियाणा प्रभात टाइम्स / सुशील सिंह
कैथल : हरियाणा के राज्यपाल प्रो० कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि जिस प्रदेश की महिलाएं व बच्चें खुशहाल व समृद्ध होंगे, वह प्रदेश समृद्ध होगा। उन्होंने कहा कि जो समाज अपनी धरोहर और विरासत से दूर हो जाता है तो वह कभी प्रगति नही कर सकता, इसलिए समाज को धरोहर और विरासत से जोडक़र उत्थान की दिशा में अग्रसर करना हम सभी का उत्तरदायित्व है।
प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी आज हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा हनुमान वाटिका परिसर, कैथल में आयोजित राज्य स्तरीय हरियाणा हरियाली तीज महोत्सव के मौके पर मुख्यातिथि के रूप में बोल रहे थे।
उन्होंने राष्ट्गान के बाद दीप प्रज्ज्वलित करके तीज महोत्सव का विधिवत रूप से शुभारंभ किया। उन्होंने प्रदेश वासियों को तीज महोत्सव की शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि हरियाणा की तीज विख्यात है, जो खुशहाली का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान यह पहला मौका है, जब राज भवन से बाहर भी कैथल में राज्य स्तरीय तीज महोत्सव आयोजित किया जा रहा है तथा इस महोत्सव में महिलाओं व बच्चों सहित रिकार्ड तोड़ भीड़ इस बात का प्रमाण है कि इस वर्ग का इस महोत्सव के प्रति अटूट लगाव है। उन्होंने कहा कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की स्थापना 1 अप्रैल, 1971 में हरियाणा के गठन के 5 वर्ष बाद इस उद्देश्य के साथ की गई थी कि समाज के 2 वर्ग महिलाएं व बच्चें खुशहाल हों। उन्होंने कहा कि इन बच्चों में भी सभी बराबर नही है, कुछ साधन संपन्न हैं तो कुछ गरीब व सुविधाओं से वंचित बच्चे भी हैं। यदि हम प्रदेश का विकास चाहते हैं तो इन बच्चों को सभी सुविधाएं उपलब्ध करवाना हमारा कर्तव्य है।
प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि समाज को प्रगति पथ पर अग्रसर करने के लिए धरोहर और विरासत के साथ जोडऩा जरूरी है। हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद ने लोगों को धरोहर और विरासत से जोडक़र समाज को उत्थान की दिशा में एक नया रास्ता दिखाया है। उन्होंने बताया कि परिषद द्वारा समाज उत्थान की ऐसी योजनाएं लागू की हैं, जिससे इस परिषद के काम में चार चांद लगाए हैं तथा प्रगति के सोपान पर आगे बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि सरकार समाज बनाता है, इसलिए सरकार की बजाए समाज महत्वपूर्ण है। हरियाणा में समाज उत्थान के लिए गैर सरकारी संगठनों को जिम्मेवारी सौंपी गई है, जिसमें हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद, हरियाणा राज्य रैडक्रॉस सोसायटी तथा सेंट जोन एंबुलैंस ऐसे संगठन है, जो गैर सरकारी होकर समाज की उन्नति में योगदान दे रहे हैं। उन्होंने बाल कल्याण परिषद के लिए सहायता करने वाले आजीवन सदस्यों का भी आभार व्यञ्चत करते हुए कहा कि गत चार माह के दौरान मानद महासचिव श्री कृष्ण ढुल के कार्यभार संभालने के बाद 3 करोड़ रुपए की राशि एकत्र की गई है, जो अभाव ग्रस्त बच्चों के उत्थान की गतिविधियों के लिए निवेश की जाती है। उन्होंने परिषद के मानद महासचिव श्री कृष्ण ढुल द्वारा किए गए कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि कुछ पद लेने वाले नामदार होते हैं तो कुछ कामदार होते हैं, लेकिन मानद महासचिव कामदार व्यक्ति हैं, जिन्होंने परिषद को विकास की बुलंदियों पर अग्रसर किया है।
उन्होंने कहा कि आज भी लगभग 20 लोगों ने एक करोड़ रुपये से अधिक की राशि परिषद को सहायतार्थ उपलब्ध करवाई है। उन्होंने राज्य स्तरीय तीज महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने वाले बच्चों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इन बच्चों ने अपनी प्रतिभा का भव्य प्रदर्शन किया है तथा उपस्थित लोगों को अपने कार्यक्रमों के माध्यम से सामाजिक संदेश दिए हैं। राज्यपाल ने आज के इस समारोह में किए गए पौधा रोपण का जिक्र करते हुए कहा कि पर्यावरण संरक्षण जरूरी है। उन्होंने इस मौके पर सेरधा के राजकीय वरिष्ठï माध्यमिक विद्यालय में 40 लाख रुपए की लागत से विकसित किए जाने वाले हर्बल पार्क का भी हनुमान वाटिका परिसर में शिलान्यास किया। उन्होंने परिषद द्वारा लगाई गई धरोहर प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा तीज मेले में लगाए गए झूलों का आनंद भी लिया। राज्यपाल ने आजीवन सदस्यों व प्रशासनिक अधिकारियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।
इस मौके पर राज्यपाल ने हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के ईआरपी सिस्टम तथा परिषद की वैबसाईट भी लांच की। परिषद द्वारा परिषद की गतिविधियों से संबंधित लघु फिल्म का भी प्रदर्शन किया गया।
हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव कृष्ण ढुल ने राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि परिषद द्वारा बच्चों के उत्थान के लिए ऐसी योजनाएं क्रियान्वित की हैं, जिनके माध्यम से 21 प्रकार की गतिविधियां संचालित की जा रही हैं। इन गतिविधियों में एडोपशन, डे केयर सैंटर, नशा मुक्ति केंद्र, स्कूल तथा आंगनवाड़ी कार्यकर्ता प्रशिक्षण केंद्र शामिल हैं। परिषद की गतिविधियों से सवा लाख बच्चों को सेवाएं दी जा रही हैं। बाल कल्याण परिषद का उद्देश्य बच्चों का उत्थान है, जिससे राष्ट्र निर्माण में ये बच्चे अपना योगदान दे सकें। उन्होंने बताया कि हर जिला के लिए परिषद द्वारा आजीवन सदस्य बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, ताकि इस संस्था के साथ ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ सकें। उन्होंने राज्यपाल द्वारा राज्य स्तरीय हरियाली तीज उत्सव के लिए समय देने के लिए आभार व्यक्त किया। कृष्ण ढुल ने परिषद का यह संकल्प दोहराया कि बच्चों को उनके मौलिक अधिकारों से वंचित नही रहने दिया जाएगा। उन्होंने राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।
जिला बाल कल्याण परिषद की अध्यक्षा एवं उपायुक्त सुनीता वर्मा ने कहा कि राज्य स्तरीय तीज उत्सव का आयोजन कैथल जिला में करके इस समारोह की महता को और बढ़ाया है। उन्होंने हरियाली तीज महोत्सव की शुभकामनाएं देते हुए राज्यपाल का आभार व्यक्त किया। ऐसे महोत्सव से लोगों का जुड़ाव अपने प्रदेश की संस्कृति के साथ होने से युवा पीढ़ी को अपनी संस्कृति के प्रति सजग रहने का मौका मिलता है। उन्होंने बाल कल्याण परिषद के मानद महासचिव कृष्ण ढुल का भी धन्यवाद किया, जिन्होंने इस बड़े आयोजन में अपना योगदान दिया। उपायुक्त ने जन समुदाय का भी सक्रीय भागीदारी के लिए आभार व्यक्त किया। आर्य राज सभा के जिलाध्यक्ष श्री बलजीत सिंह देशबंधु ने राज्यपाल को पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया।
इस अवसर पर दिल्ली पब्लिक स्कूल कैथल के बच्चों ने कथक नृत्य, डीएवी स्कूल पूंडरी के विद्यार्थियों ने समूह नृत्य, डीएवी स्कूल चीका के विद्यार्थियों ने गिद्धा तथा माईल स्टोन पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने समूह नृत्य प्रस्तुत किया। इन कार्यक्रमों में विद्यार्थियों ने सावन माह के महत्व व तीज के महत्व को प्रदर्शित किया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रियगान से किया गया।
इस मौके पर गुहला विधायक कुलवंत बाजीगर, राज्यपाल के सचिव डा. अमित अग्रवाल, चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति आरबी सोलंकी, एसपी आस्था मोदी, अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता, एसडीएम जगदीप, नगराधीश विजेंद्र हुड्डा व हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद  के सीनियर चाइल्ड वेलफेयर ऑफिसर  ओपी मेहरा ,व बाल कल्याण परिषद के विभिन्न जिलों के अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Close