न्यूज़फरीदाबादहरियाणा

देश के युवाओं में बदलाव देखने को मिल रहा है : प्रशांत भल्ला

हरियाणा प्रभात टाईम्स / सुशील सिंह 
फरीदाबाद । केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के राज्यमंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि भारत सरकार के कौशल भारत- कुशल भारत और हरियाणा सरकार के हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद कार्यक्रम के तहत युवाओं को उनके कौशल के अनुरूप शिक्षा देकर तैयार किया जा रहा है, ताकि वे अपने हुनर के हिसाब से जीवन जीने के लिए स्वयंरोजगार करें या रोजगार करके अपने आप आत्मनिर्भर बन सकें। यह जानकारी केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने आज शुक्रवार को स्थानीय सेक्टर -28 के राजकीय मॉडल सीनियर सेकेंडरी स्कूल में पत्रकारों  के साथ बातचीत में दी। इससे पूर्व उन्होंने स्किल डेवलपमेंट के तहत मानव रचना विश्वविद्यालय द्वारा बनाए गए स्किल डेवलपमेंट सेंटर/ लैब का उद्घाटन/लोकार्पण भी किया। केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कौशल भारत- कुशल भारत के सपनों को साकार करने का बीड़ा उठाया है । इसके लिए 5 साल पहले स्किल डेवलपमेंट विभाग की स्थापना की थी। जिसके माध्यम से युवाओं को उनके हुनर का काम मिले जिसे वे स्वयं रोजगार करें या सरकारी और प्राइवेट क्षेत्र में रोजगार करके आत्मनिर्भर बन सके । युवाओं  को उनके हुनर के अनुरूप काम मिले।  उन्होंने कहा कि हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शिक्षा विभाग के हरियाणा स्कूल शिक्षा प्रायोजन परिसर कार्यक्रम के तहत युवाओं को नौवीं कक्षा से उनके हुनर के अनुरूप प्रशिक्षित किया जा रहा है, ताकि बारहवीं कक्षा के बाद वे आगे पढ़ाई नहीं करना चाहे तो उनके हुनर के अनुरूप स्वयं का रोजगार स्थापित करें या विभिन्न कंपनियों और सरकारी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करके आत्मनिर्भर बने।
श्री कृष्ण पाल गुर्जर ने कहा कि हुनर/ कौशल विकास के तहत आईटी, फैशन, ब्युटी ,वैलनेस सहित अनेक और कोर्स शुरू किए गए हैं, जो युवाओं को उनके स्वरोजगार  स्थापित करने या रोजगार प्राप्त करने में सहायक सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि प्रति वर्ष 47 लाख  बच्चे स्कूलों में शिक्षा पास करके उच्च शिक्षा के लिए जाते हैं। इनमें से 40 परसेंट बच्चे स्किल डेवलपमेंट का कोर्स कर रहे हैं ।  कौशल विकास का कोर्स करने वाले बच्चों में से रोजगार चलाने के लिए उनमें से 60 प्रतिशत बच्चे कामयाब होते हैं। विद्यार्थियों को उनके पैरामीटर भी पूरे करने पड़ते हैं, ताकि वे स्वयं का रोजगार या प्राइवेट और  सरकारी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त कर सके । कौशल विकास के तहत कोर्स करके विद्यार्थी विदेशों में भी नौकरियां प्राप्त कर रहे हैं और अपना रोजगार भी चला रहे हैं । प्रदेश में सरकार ने यह योजना एक हजार स्कूलों में शुरू की है और देश में 7000 स्कूलों में इसका क्रियान्वयन किया जाएगा । प्रथम चरण में हरियाणा में 100 स्कूलों में कौशल विकास का क्रियान्वयन किया गया है।
केंद्रीय मंत्री ने एफआइए और मानव रचना विश्वविद्यालय के अधिकारियों से कहा कि वे फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र में स्किल डेवलपमेंट के तहत किसी भी योग्य हुनरमंद युवा को बेरोजगार ना रहने दें। हुनरमंद युवाओं को रोजगार देने में सरकार की यह योजना कारगर सिद्ध हो रही है । उन्होंने कहा कि यह एक सामाजिक सरोकार का कार्य भी है, जिसे फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र के युवा आत्मनिर्भर बन सकेंगे ।
मानव रचना के चेयरमैन श्री प्रशांत भल्ला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी देते हुए बताया कि म देश के युवाओं में बदलाव देखने को मिल रहा है। भारत सरकार और हरियाणा सरकार ने स्कूलों में युवाओं को कौशल के अनुरूप हुनर शिक्षा देकर उन्हें स्वयं रोजगार करने या प्राइवेट या सरकारी क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करने में बेहतर कारगर सिद्ध हो रहे हैं।
ओरीफ्लेम स्वीडन के कोर्पोरेट अफेयर डायरेक्टर विवेक कटोच ने प्रेस वार्ता में बताया कि भारत सरकार ने कंपनी एक्ट के एससीआर में  बदलाव किया है । इसमें हुनरमंद युवाओं को नौकरी देने का प्रावधान किया गया है। स्किल डेवलपमेंट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक सराहनीय कदम है । इससे वर्ष 2022 तक भारत वर्ष आर्थिक रूप से विश्व में नंबर वन होगा । भारत की 5 मिलियन डॉलर तक आर्थिक स्थिति पहुंच जाएगी । अगले कुछ ही वर्षों में रिटेल तथा सर्विस सेंटर में रोजगार के नए अवसर युवाओं को मिलेंगे ।
जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी शशि अहलावत ने हुनर कौशल विकास के बारे में सरकार की क्रियान्वित बारे विस्तार पूर्वक जानकारी दी ।
इस अवसर पर मानव रचना के चैयरमैन  प्रशांत भल्ला, वाइस चेयरमैन डॉक्टर अमित भल्ला, नवदीप चावला ,फरीदाबाद एफआईए के चेयरमैन बीआर भाटिया ,डीईईओ शशि अहलावत, उप जिला मौलिक शिक्षा शिक्षा अधिकारी मुनेश चौधरी ,डॉक्टर कौशल बाटला, मंत्री जी के निजी सचिव विकास शुक्ला, राजीव माथुर, स्कूल की प्रिंसिपल डॉ वीणा वासुदेव सहित  कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
Tags
Show More

Related Articles

Close